Logo Naukrinama

NEET-UG को इस रविवार को पुनः निर्धारित किया गया है, 1,563 उम्मीदवारों के लिए जिन्हें ग्रेस मार्क्स मिले, 6 नए केंद्र निर्धारित

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने 16 जून की परीक्षा में ग्रेस मार्क्स पाने वाले 1,563 उम्मीदवारों के लिए राष्ट्रीय पात्रता-सह-प्रवेश परीक्षा (NEET-UG) के पुनर्निर्धारण की घोषणा की है। यह निर्णय परीक्षा के प्रशासन को लेकर विवादों और अनियमितताओं के आरोपों के बीच आया है।
 
 
NEET-UG को इस रविवार को पुनः निर्धारित किया गया है, 1,563 उम्मीदवारों के लिए जिन्हें ग्रेस मार्क्स मिले, 6 नए केंद्र निर्धारित

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने 16 जून की परीक्षा में ग्रेस मार्क्स पाने वाले 1,563 उम्मीदवारों के लिए राष्ट्रीय पात्रता-सह-प्रवेश परीक्षा (NEET-UG) के पुनर्निर्धारण की घोषणा की है। यह निर्णय परीक्षा के प्रशासन को लेकर विवादों और अनियमितताओं के आरोपों के बीच आया है।
NEET-UG Exam Rescheduled for 1,563 Candidates Granted Grace Marks; 6 Additional Centers Assigned

प्रमुख बिंदु:

  • पुनर्निर्धारित विवरण:
    1,563 उम्मीदवारों के लिए पुनर्निर्धारित NEET-UG परीक्षा इस रविवार, 23 जून को देश भर के सात केंद्रों पर होगी। छह नए केंद्र निर्धारित किए गए हैं, जबकि चंडीगढ़ में एक केंद्र अपरिवर्तित रहेगा।

  • पुनर्निर्धारण का कारण:
    मेघालय, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, हरियाणा और गुजरात सहित छह केंद्रों के उम्मीदवारों को प्रश्नपत्रों के गलत वितरण और फटी हुई ओएमआर शीट जैसे प्रशासनिक मुद्दों के कारण ग्रेस अंक दिए गए थे। पुनर्निर्धारण का उद्देश्य निष्पक्षता सुनिश्चित करना और प्रभावित उम्मीदवारों को परीक्षा देने का एक और अवसर प्रदान करना है।

  • विवाद और कानूनी चुनौतियाँ:
    4 जून को NEET-UG के नतीजे घोषित होने के बाद विवाद शुरू हो गया, जिसमें विभिन्न केंद्रों पर बढ़े हुए अंक और अनियमितताओं के आरोप लगे। इसके कारण विरोध प्रदर्शन और कानूनी चुनौतियाँ हुईं, उम्मीदवारों और अभिभावकों ने परीक्षा प्रक्रिया की ईमानदारी पर चिंता जताई।

  • अदालती कार्यवाही:
    मामला सर्वोच्च न्यायालय में ले जाया गया, जिसने बाद में 6 जुलाई से शुरू होने वाली NEET-UG काउंसलिंग को स्थगित करने से इनकार कर दिया। अदालत इस मुद्दे से संबंधित याचिकाओं पर 8 जुलाई को आगे सुनवाई करेगी।

  • उम्मीदवार की पसंद:
    ग्रेस अंक पाने वाले उम्मीदवारों को या तो 23 जून को दोबारा परीक्षा देने या बिना ग्रेस अंक के अपने मूल अंक बरकरार रखने का विकल्प दिया गया था। सभी प्रभावित उम्मीदवारों को एडमिट कार्ड जारी कर दिए गए हैं, और पुनर्निर्धारित परीक्षा में उनकी भागीदारी परीक्षा के दिन ही पता चलेगी।