×

UGC ने सभी 45 केंद्रीय विश्वविद्यालयों से CUET-UG आधारित एडमिशन प्रक्रिया का विवरण मांगा

UGC ने सभी 45 केंद्रीय विश्वविद्यालयों से CUET-UG आधारित एडमिशन प्रक्रिया का विवरण मांगा

नई दिल्ली 23 सितंबर | यूजीसी ने देशभर के विभिन्न केंद्रीय विश्वविद्यालयों में सीयूईटी आधारित यूजी कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए विश्वविद्यालयों की अस्थायी समयरेखा और अन्य विवरण एकत्र किए हैं। इसका उद्देश्य विभिन्न विश्वविद्यालयों में अंडर ग्रेजुएट पाठ्यक्रमों के संदर्भ में उठाए गए कदमों की जानकारी हासिल करना व छात्रों को हर संभव अपडेट से अवगत कराना है। यूजीसी के अध्यक्ष प्रोफेसर एम जगदीश कुमार ने इस विषय में कहा कि यूजीसी ने देशभर के 45 केंद्रीय विश्वविद्यालयों में सीयूईटी- 2022 के आधार पर यूजी कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए विवरण मांगे हैं। इसके तहत विश्वविद्यालय से पूछा गया है कि उन्होंने ही सीयूईटी के आधार पर दाखिले को लेकर क्या-क्या तैयारियां की है। मसलन मेरिट लिस्ट की क्या व्यवस्था है, दाखिले को लेकर एडमिशन पोर्टल का स्टेटस क्या है। छात्र कब से दाखिले के लिए आवेदन कर सकते हैं और दाखिले के लिए आवेदन करने एवं मेरिट लिस्ट की अंतिम तिथि क्या है। यूजीसी ने विश्वविद्यालयों से हासिल किए यह विवरण वेबसाइट पर एक लिंक के जरिए उपलब्ध कराएं हैं।

दिल्ली विश्वविद्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक विश्वविद्यालय ने अंडर ग्रेजुएट दाखिले के लिए कॉमन सीट एलोकेशन सिस्टम (सीएसएएस) एक ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से शुरू कर दिया है। सीएसएएस का पहला चरण 12 सितंबर से शुरू हुआ है। पहले चरण में छात्र इस पोर्टल के माध्यम से अपना पंजीकरण करवा सकते हैं। दूसरा चरण 26 सितंबर 10 अक्टूबर, 2022 तक होगा। दिल्ली विश्वविद्यालय 26 सितंबर को अपनी पहली मेरिट लिस्ट घोषित कर सकता है। मेरिट सूची की घोषणा की अंतिम तारीख 10 अक्टूबर, 2022 तक घोषित की जाएगी।

दिल्ली विश्वविद्यालय ने जानकारी दी है कि यूजी बुलेटिन ऑफ इंफॉर्मेशन 2022 और कॉमन सीट एलोकेशन सिस्टम 2022 में सभी कार्यक्रमों की पात्रता मानदंड और यूओडी की प्रवेश नीति का उल्लेख किया गया है। दोनों दस्तावेज विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर प्रकाशित किए गए हैं। गौरतलब है कि यूजी प्रवेश प्रक्रिया सीयूईटी में भाग लेने वाले विश्वविद्यालयों द्वारा विभिन्न विषयों की मेरिट सूची तैयार की जाएगी, जो सीयूईटी-यूजी स्कोर कार्ड के आधार पर होगी।

सीयूईटी (यूजी) का रिजल्ट जारी किया जा चुका है और अब कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में दाखिले की बारी है। कॉलेजों में दाखिले से पहले यूजीसी ने स्पष्ट किया है कि अंडरग्रैजुएट कोर्स में परसेंटाइल नहीं बल्कि सामान्य प्रतिशत के आधार पर ही दाखिले दिए जाएंगे।

दिल्ली विश्वविद्यालय में भी पूर्व की तरह छात्रों द्वारा अर्जित किए गए औसत प्रतिशत अंकों को दाखिले का आधार बनाया जाएगा। हालांकि इस बार यह प्रतिशत सीयूईटी की परीक्षाओं में हासिल किए गए अंकों के आधार पर तय की जाएगी।

Share this story