×

सर्वे: भारतीयों का बड़ा हिस्सा CUET नई प्रवेश प्रणाली से खुश

सर्वे: भारतीयों का बड़ा हिस्सा CUET नई प्रवेश प्रणाली से खुश

नई दिल्ली, 21 सितम्बर | एक अच्छे केंद्रीय विश्वविद्यालय में प्रवेश लेना देश के अधिकांश छात्रों का सपना होता है। विश्वविद्यालयों में प्रवेश प्रणाली को आसान बनाने के लिए, केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने इस वर्ष से स्नातक (सीयूईटी-यूजी) प्रवेश के लिए सामान्य विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा शुरू की है। पहले सीयूईटी-यूजी प्रवेश के परिणाम 16 सितंबर की देर रात घोषित किए गए थे। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के तहत राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (एनटीए) द्वारा पहली सीयूईटी-यूजी के स्कोर जारी किए गए थे।

विशेष रूप से, इस साल मार्च में, केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने केंद्रीय विश्वविद्यालयों के लिए राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 के अनुरूप बोर्ड परीक्षा परिणामों के बजाय सीयूईटी स्कोर के माध्यम से प्रवेश देना अनिवार्य कर दिया। हालांकि, सीयूईटी अन्य विश्वविद्यालयों के लिए वैकल्पिक है।

विशेष रूप से, 90 विश्वविद्यालयों ने इस वर्ष सीयूईटी में भाग लिया। सीयूईटी-यूजी 2022 छह चरणों में आयोजित किया गया था और परीक्षा के लिए 14,90,000 छात्रों ने पंजीकरण कराया था। छह चरणों की प्रवेश परीक्षा में छात्रों की कुल 60 प्रतिशत उपस्थिति दर्ज की गई थी।

नई प्रवेश प्रणाली के बारे में लोगों की राय जानने के लिए सीवोटर-इंडियाट्रैकर ने आईएएनएस के लिए एक राष्ट्रव्यापी सर्वे किया। सर्वे से पता चला कि 49 प्रतिशत लोग सरकार द्वारा शुरू की गई सामान्य प्रवेश परीक्षा से अवगत था। जबकि केवल 18 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उन्हें नहीं पता था कि केंद्रीय विश्वविद्यालयों में सीयूईटी अनिवार्य कर दिया गया है। इनके अलावा, 33 प्रतिशत लोगों ने अपने विचार साझा नहीं किए।

सर्वे के दौरान, 18-24 वर्ष की आयु वर्ग के 51 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि उन्हें सरकार द्वारा शुरू की गई नई प्रवेश प्रणाली के बारे में पता था। जबकि इस आयु वर्ग के केवल 14 प्रतिशत उत्तरदाताओं को सीयूईटी के बारे में पता नहीं था, उनमें से 35 प्रतिशत ने इस मुद्दे पर अपनी राय पेश नहीं की।

सर्वे में 57 प्रतिशत उत्तरदाताओं, जिनमें छात्र/बेरोजगार/गृहणी शामिल है, उन्होंने उत्तर दिया कि वे एकीकृत प्रवेश परीक्षा के बारे में जानते थे। इस श्रेणी के केवल 20 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने नई प्रवेश परीक्षा के बारे में नहीं सुना था और 23 प्रतिशत इस मुद्दे के बारे में अनजान है।

सर्वे में यह भी पता लगाने की कोशिश की गई कि एडमिशन के लिए कट ऑफ के रूप में कक्षा 12वीं के अंक प्रतिशत की पुरानी प्रणाली की तुलना में लोग नई प्रवेश प्रणाली के बारे में क्या सोचते हैं।

सर्वे के आंकड़ों के अनुसार, 47 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि नई प्रणाली में सामान्य प्रवेश परीक्षा के माध्यम से एडमिशन लेने की प्रक्रिया कट ऑफ कक्षा 12 वीं प्रतिशत की पुरानी प्रणाली से बेहतर है।

वहीं, जहां 38 फीसदी उत्तरदाताओं ने पुरानी प्रवेश प्रणाली के पक्ष में अपने विचार व्यक्त किए। इनके अलावा, 15 फीसदी ने कोई राय नहीं रखी।

सर्वे के दौरान, 52 प्रतिशत उत्तरदाताओं, जिनमें छात्र/बेरोजगार/गृहणी शामिल है, ने नई प्रवेश प्रणाली को बेहतरीन बताया। 37 प्रतिशत ने पुरानी प्रवेश प्रणाली का समर्थन किया। वहीं, इस श्रेणी के 11 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने अपने विचार साझा नहीं किए।

Share this story