Logo Naukrinama
SSC JE Recruitment Exam 2022 : अभ्यर्थी ने जूनियर इंजीनियर परीक्षा के लिए चश्मे के साथ लगाई फोटो, आवेदन निरस्त
SSC JE Exam 2022: कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) ने कनिष्ठ अभियंता भर्ती परीक्षा के लिए 100 से अधिक आवेदनों को चश्मे के साथ पासपोर्ट फोटो के कारण रद्द कर दिया है। जूनियर इंजीनियर भर्ती परीक्षा 14 से 16 नवंबर 2022 तक आयोजित होने वाली है। अब प्रत्याशी इसका विरोध कर रहे हैं। सोमवार को अभ्यर्थियों ने एसएससी सेंट्रल जोन, सिविल लाइंस, प्रयागराज के कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। उम्मीदवारों को बताया जाता है कि चश्मे के साथ पासपोर्ट फोटो के अलावा आवेदन रद्द करने का कारण स्पष्ट नहीं है।
 
SSC JE Exam 2022: कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) ने कनिष्ठ अभियंता भर्ती परीक्षा के लिए 100 से अधिक आवेदनों को चश्मे के साथ पासपोर्ट फोटो के कारण रद्द कर दिया है। जूनियर इंजीनियर भर्ती परीक्षा 14 से 16 नवंबर 2022 तक आयोजित होने वाली है। अब प्रत्याशी इसका विरोध कर रहे हैं। सोमवार को अभ्यर्थियों ने एसएससी सेंट्रल जोन, सिविल लाइंस, प्रयागराज के कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। उम्मीदवारों को बताया जाता है कि चश्मे के साथ पासपोर्ट फोटो के अलावा आवेदन रद्द करने का कारण स्पष्ट नहीं है।

SSC JE Exam 2022: कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) ने कनिष्ठ अभियंता भर्ती परीक्षा के लिए 100 से अधिक आवेदनों को चश्मे के साथ पासपोर्ट फोटो के कारण रद्द कर दिया है। जूनियर इंजीनियर भर्ती परीक्षा 14 से 16 नवंबर 2022 तक आयोजित होने वाली है। अब प्रत्याशी इसका विरोध कर रहे हैं। सोमवार को अभ्यर्थियों ने एसएससी सेंट्रल जोन, सिविल लाइंस, प्रयागराज के कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। उम्मीदवारों को बताया जाता है कि चश्मे के साथ पासपोर्ट फोटो के अलावा आवेदन रद्द करने का कारण स्पष्ट नहीं है।

जिन उम्मीदवारों के आवेदन जूनियर इंजीनियर भर्ती परीक्षा 2022 के लिए रद्द कर दिए गए हैं, उनका कहना है कि एसएससी के अन्य फॉर्म उसी फोटो और हस्ताक्षर के साथ स्वीकार किए गए हैं। जब तक यूपीएससी फॉर्म जमा नहीं हो जाता। कोई टंटा बखेड़ा नहीं था। ऐसे में कनीय अभियंता भर्ती परीक्षा में आवेदन को निरस्त करना अनुचित है। नियम सभी उम्मीदवारों पर समान रूप से लागू होने चाहिए।

रद्द आवेदनों का सत्यापन
आवेदन रद्द करने को लेकर अभ्यर्थियों की शिकायत पर एसएससी सेंट्रल जोन के निदेशक राहुल सचान का कहना है कि जिनके आवेदन निरस्त हुए हैं उनके फॉर्म की दोबारा जांच की जा रही है. यदि किसी का आवेदन गलती से खारिज कर दिया जाता है, तो उसे परीक्षा में बैठने का अवसर दिया जा सकता है।