×

Delhi University: डीयू में यूजी कोर्सेज के लिए आज दाखिले का शेड्यूल होगा जारी

EMoo

नई दिल्ली, 11 सितंबर | दिल्ली विश्वविद्यालय द्वारा अंडरग्रेजुएट कोर्सेज के लिए दाखिले का शेड्यूल सोमवार 12 सितम्बर को जारी किया जा रहा है। वहीं अक्टूबर के अंतिम में पोस्ट ग्रेजुएट कोर्सेज के लिए सेशन शुरू होगा। इसके अतिरिक्त पीएचडी में एडमिशन की प्रक्रिया नवम्बर से होने की संभावना है। बता दे कि डीयू में इस बार दाखिले कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट ( सीयूईटी ) स्कोर के माध्यम से हो रहे हैं। 15 सितंबर या उससे एक-दो दिन पहले कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेस टेस्ट (सीयूईटी- यूजी) का रिजल्ट घोषित किया जाना है। सीयूईटी के रिजल्ट की संभावित तारीख के सामने आने के बाद अब दिल्ली विश्वविद्यालय 12 सितंबर को डीयू में दाखिले से जुड़ी जानकारी साझा करेगा।

विश्वविद्यालय के अंतर्गत लगभग- 80 विभाग हैं जहां स्नातकोत्तर डिग्री ,पीएचडी, सर्टिफिकेट कोर्स, डिग्री कोर्स आदि कराएं जाते हैं। इसी तरह से दिल्ली विश्वविद्यालय में तकरीबन 79 कॉलेज है जिनमे स्नातक, स्नातकोत्तर की पढ़ाई होती है। इन कॉलेजों व विभागों में हर साल स्नातक स्तर पर विज्ञान , वाणिज्य व मानविकी विषयों में 70 हजार से अधिक छात्र-छात्राओं के प्रवेश होते हैं।

EMoo

दिल्ली विश्वविद्यालय का कहना है कि डीयू से संबंधित सभी कॉलेजों में इस वर्ष कॉमन सीट एलोकेशन सिस्टम (सीएसएएस) के माध्यम से तीन चरणों दाखिला होगा। इसके चलते इस बार दिल्ली विश्वविद्यालय में अंडर ग्रेजुएट पाठ्यक्रमों का नया सत्र करीब 20 अक्तूबर से शुरू होने की संभावना है।

यूजीसी ने सीयूईटी परीक्षाओं में हिस्सा लेने वाले सभी विश्वविद्यालयों से सीयूईटी-यूजी स्कोर के आधार पर प्रवेश प्रक्रिया शुरू करने के लिए अपने वेब पोर्टल तैयार रखने को कहा है। यूजीसी से यह निर्देश प्राप्त करने के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय सोमवार 12 सितंबर से दाखिला प्रक्रिया प्रारंभ करेगा।

15 सितंबर के आसपास सीयूईटी-यूजी परीक्षा का परिणाम घोषित होने और दाखिला प्रक्रिया शुरू होने के बाद भी अंडर ग्रेजुएट दाखिलें पूरे होने में तीन से चार सप्ताह का समय लग सकता है। दरअसल इसके पीछे मुख्य वजह यह है कि अंडर ग्रेजुएट दाखिले के लिए सामान्यता पहली, दूसरी, तीसरी और कभी कभी 3 से अधिक कट ऑफ लिस्ट जारी की जाती हैं। इसलिए इस दाखिला प्रक्रिया में कुछ समय लगता है।

गौरतलब है कि सीयूईटी यूजी के रिजल्ट के आधार पर विभिन्न विश्वविद्यालय और कॉलेज अपनी कट ऑफ लिस्ट तैयार करेंगे। इसके आधार पर ही छात्र दाखिला हासिल कर सकेंगे। यानी विश्वविद्यालयों मे फस्र्ट ईयर का नया सत्र अक्टूबर माह से शुरू हो सकता है।

Share this story